जब नेता जी बैंक में घुसे और तमाम ग्राहको के सामने बैंककर्मचारी को चोर बोला व बैंक की बेइज्जती की ।। - We Bankers

Breaking

We Bankers

Banking Revolution in india

Thursday, April 8, 2021

जब नेता जी बैंक में घुसे और तमाम ग्राहको के सामने बैंककर्मचारी को चोर बोला व बैंक की बेइज्जती की ।।

 


यह वीडियो बीजेपी के माननीय विधायक श्री संजय कुमार गुप्ता द्वारा पोस्ट किया गया है। सच क्या है यह तो जाँच का विषय है लेकिन विधायक जी को यह तो मालूम ही होगा कि बैंकों में ग्राहक शिकायत निवारण की एक ऐसी प्रणाली है जिसमें न केवल त्वरित कार्यवाही होती है वरन "Customer is always right" के बेतुके सिद्धांत का पालन करते हुए बैंक कर्मियों को ही एकतरफा व मनमानीपूर्ण तरीके से दोषी साबित किया जाता है, फिर भला विधायक जी ने उच्च अधिकारियों से शिकायत करने की जगह बैंक में उच्च अधिकारी बन कर ग्राहक और जनता के सामने इस तरह का तांडव क्यों किया? किस कानून ने विधायक जी को यह अधिकार दिया है? 


शाखा के स्टाफ सदस्यों से मिली जानकारी इस प्रकार है:

"विधायक के द्वारा देश के चौथे स्तम्भ का इस तरह गलत उपयोग करना काफ़ी शर्मनायक है.

ये video गलत तरीके से दिखाया जा रहा है.

मैं वही bank अधिकारी हो जिसपे ये झूठा आरोप  लगाया जा रहा है

जबकि पूरी मामला इस प्रकार था

की इसी महिला के हस्बैंड ने 22 मार्च aur 24 march को एक बार 3 लाख और एक बार 95 हज़ार रुपएये निकले थे और सिग्नेचर 100% मैच कर रहा था. तो नियमानुसार cheq कोई भी लेके आएगा तो बैंक को payment करना होगा और ज़ब कन्फर्मेशन कॉल किया गया तो उस महिला के अकाउंट मे उसके husband k hi number tha.

और ये कस्टमर कोई नया कस्टमर नहीं था इसका हमारा ब्रांच से लोन भी चल रहा था.

अब जिस दिन की ये घटना है उस दिन असल मे ये हुआ था की वो महिला विधायक जी के किसी आदमी के साथ बैंक आई और वो ब्यक्ति बैंक के अंदर आते ही बैंक वालो को इस घटना मे मिला हुआ होने के आरोप lgane लगा जिसमे maine आपत्ति उठाई की bina proof k ye सब बातें na बोलें jisme उस ब्यक्ति के द्वारा धमकी दिया गया की पहचानते हो हमको tmko उठवा देंगे.... जिसमे फिर maine usse इस तरीके se बात ना करते हुए की बैंक के पीछे jane को कहा क्युकी उसके कारण बाकि customer को लेट हो रहा था. बस इसी बात प की maine विधयाक के प्रतिनिधि को पीछे jane को बोल दिआ इस्पे उसने विधायक को फोन किआ और मेरे साथ बदत्तमीजी हुई है आप बैंक आइये कहना लगा.

विधायक के द्वारा बैंक मे प्रवेश करते ही आलतू फ़ालतू आरोप जो की वीडियो मे एडिट किआ गया की maine उस महिला को वैश्य बोला है जो की बिलकुल झूठ बात है aur maine विधायक जी से ज़ब pucha की की क्या ये लड़की या आपका प्रतिनिधि हरीशचंद्र है जो ये जो बोल rhe है वो सच ही बोल rhe है

आप एक ज़िम्मेदार पोस्ट पर हो तो aapko baatein भी ज़िम्मेदारी के साथ मुँह से निकालनी चाहिए bina सच जाने आप kaise किसी पर आरोप लगा skte हो... Aur आप ना जज ना आप पुलिस हो तो और आपका ऐसा behaviour आपको एक गैर ज़िम्मेदार विधयाक बनाता है तो इसपर मुझे personally target kr k झूठ बोलना की मे उसके पति के दोस्त हु जबकि एक अंधा ब्यक्ति भी ये देख के बोल skta है की ये दोनों दोस्त नहीं होंगे... मतलब कुछ भी बकवास बोल देना है...

जब बात aage जानी लगी तो मैंने  उप के ही बीजेपी पार्टी के एक reputed मंत्री से विधायक जी की बात कराई और तब ये शांत हुए aur पुलिस वालो को ये बोलते हुए की बैंक वाले की गलती नहीं है इसके हस्बैंड को ले कर जाइये. Aur उसके बाद वो ब्रांच से chupchap चले गए.

मे आशा करता हु की आपलोग कुछ भी लिखने से पहले कुछ भी समझने से पहले सारी घटना की पूरी तरीके से जांच कर ले. मुझे खुद ताज्जुब है की विधायक जी के जाते समय शब्द थे की बैंक वालो की गलती नहीं है और बाहर जाते ही इस तरह से बातों को काट कर वीडियो डालना बिलकुल भी शोभा नहीं देता. अगर डालना भी था तो पूरा वीडियो डालना चहिये थे ज़ब बैंक wale बोल रहे है उसको edit kr दिआ गया है. ऐसी हरकत एक समाननीय विधायक se बिलकुल उम्मीद नहीं थी और आज मैंने देख लिए की हमारे देश की मीडिया जो की देश के 4th pillar mana जाता है वो कितना कमजोर हो गया."


बैंक कर्मियों का यह दायित्व है कि वह विधायक के कृत्य और आचरण का एक हो कर पुरजोर विरोध करें।